Home व्यापार Mumbai – निफ्टी दिसंबर तक पहुंच सकता है 25,800 से ऊपर: प्रभुदास...

Mumbai – निफ्टी दिसंबर तक पहुंच सकता है 25,800 से ऊपर: प्रभुदास लीलाधर

16
0

मुंबई, 25 अप्रैल (वार्ता) इस समय चल रहे आम चुनावों के वातावरण में बाजार के भविष्य को लेकर उत्सुकताओं के बीच वित्तीय प्रबंधन क्षेत्र की फर्म प्रभुदास लीलाधर (पीएल) ने गुरुवार को कहा कि यदि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार फिर से सत्ता में लौटती है तथा अनुमानों के अनुसार मानसून अच्छा रहता है तो भारत में शीर्ष 50 शेयरों पर आधार निफ्टी शेयर सूचकांक दिसंबर के अंत तक 25,810-27100 दायरे तक पहुंच सकता है

इसके विपरीत बाजार में मंदी का वातावरण बनने पर वर्ष के अंत में निफ्टी के 23229 के स्तर तक रहने का अनुमान है

पीएल ने अपनी नवीनतम भारत रणनीति रिपोर्ट – डेमोक्रेटिक हैट-ट्रिक टू री-रेट मार्केट्स में कहा है कि निफ्टी में सुधार का यह अनुमान राजग सरकार की निरंतरता और ला नीना के प्रभाव से सामान्य मानसून की संभावनाओं पर आधारित है। इन कारकों से नीतियों में स्थिरता और मांग आर्थिक विकास को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है

रिपोर्ट में कहा गया है कि निफ्टी इस समय संबंधित कंपनियों के शेयरों का वायदा भाव औसतन प्रतिशेयर वार्षिक लाभ (ईपीएस) के 18.3 गुना स्तर पर चल रहा है। यह 15 वर्ष के 19 गुणा औसत से 3.7 प्रतिशत नीचे है

पीएल की इस रिपोर्ट में निफ्टी 50 की कंपनियों से संबंधित 26 मार्च के औसत 1358 रुपये के न्यूनतम ईपीएस और 15-वर्षीय औसत पीई अनुपात के 19 गुना आधार पर आगामी दिसंबर के अंत तक तक निफ्टी के 25810 के स्तर तक पहंचने का अनुमान लगाया गया है

रिपोर्ट के अनुसार तेजड़ियों की सक्रियता की स्थिति में 15 साल के औसत पीई में पांच प्रतिशत के प्रीमियम के साथ इसके 20 गुना तक पहुंचने की संभावना पर निफ्टी 27100 तक पहुंच सकता है

इसके विपरीत मंदी की स्थिति में बाजार 15 वर्ष के औसत से दस प्रतिशत नीचे जा सकता है और ऐसी स्थिति में इस वर्ष के अंत तक निफ्टी 23229 के दायरे में जा सकता है

प्रभुदास लीलाधर के संस्थागत अनुसंधान प्रमुख अमनीश अग्रवाल ने कहा, “हाल ही में, निफ्टी अपने सर्वकालिक शिखर पर पहुंच गया, लेकिन बाद में बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव, कच्चे तेल और जिंसों की कीमतों में उतार-चढ़ाव और अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा प्रत्याशित ब्याज दर समायोजन पर दृष्टिकोण के अंतर के कारण लगभग चार प्रतिशत नीचे आया है

उन्होंने कहा कि इस समय भारत आम चुनाव के माहौल में डूबा हुआ है, जो इस दशक की एक महत्वपूर्ण घटना है। जनमत सर्वेक्षणों में राजग की आसान जीत की भविष्यवाणी के बावजूद, बाजार को 2004 के चुनाव परिणाम याद है जबकि 17 मई 2004 को चुनाव परिणाम घोषित होने के दिन बीएसई सेंसेक्स 15.5 प्रतिशत तक गिर गया था

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस बार मतगणना के दिन चार जून राजनीतिक मोर्चे और मानसून के आसपास अनिश्चितता खत्म हो जाएगी, जिससे एफआईआई प्रवाह में उल्लेखनीय वृद्धि हो सकती है

पीएल को लगता है कि इस बार चुनाव नतीजे आने से पहले बाजार में गिरावट दिख सकती है। फर्म का कहना है, “हम 04 जून 2024 तक बाजार में गिरावट के दौरान खरीदारी करने की सलाह देते हैं

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की अर्थव्यवस्था और बाजारों ने राजग और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) दोनों के शामन में अच्छा प्रदर्शन किया है। हालाँकि, राजग प्रमुख सुधारों को लागू करने और बुनियादी ढांचे के विकास तथा सभी वर्गों और क्षेत्रों में समावेशी विकास पर अपना ध्यान केंद्रित करने में सफल रहा है

रिपोर्ट में कहा गया है कि भाजपा घोषणापत्र विश्व स्तरीय बुनियादी ढाँचे के निर्माण और प्रौद्योगिकी परिवर्तन में निवेश पर ध्यान केंद्रित करने के साथ आर्थिक पथ पर अधिक स्पष्टता प्रदान कर रहा है

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले तीन महीनों में, शीर्ष प्रदर्शन करने वाले क्षेत्र ऑटो, धातु, बिजली और तेल और गैस रहे हैं, जबकि आईटी सेवाओं, एफएमसीजी, बैंक और उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं जैसे रक्षात्मक क्षेत्र पिछड़ गए हैं। पीएल की राय में रियल्टी, हेल्थकेयर और कैपिटल गुड्स ने अपनी सकारात्मक गति बनाए रखी है। अल्पावधि में इस प्रवृत्ति में बदलाव की संभावना नहीं लगती है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here